Premi premika ka milan

सागर की लहरों में चांद की प्रतिझाया
कुछ यूं तरंगे लगा रही थी,
मानो एक प्रेमी के हृदय का दृश्य दिखा रही थी,
प्रेमिका के आगमन पर दशा जो
प्रेमी के हृदय में होती है,
कुछ यूं ही सागर की लहरें हिलोरे लगा रही थी।

Anjali Yadav
By 
Loved it? Explore the Social section to get in touch with all the writers and readers!
Trivia!